भव्‍य श्री राम मंदिर निर्माण के पहले फेज का काम पूरा, दिसंबर 2023 से खुलेगा मंदिर

अयोध्या.  श्री राम जन्मभूमि में बन रहे भव्य श्री राम मंदिर निर्माण (Ayodhya Ram Mandir Construction)  के पहले फेज का काम पूरा हो गया है. जमीन के 50 फीट गहराई में कांक्रीट की आधारशिला रखी जा चुकी है. राम मंदिर जिस 2.77 एकड़ जमीन पर बन रहा है, उस जगह पर बेस बनाने का काम पूरा हो गया है. मंदिर दिसम्बर 23 तक तैयार हो जाएगा. इसमें 2 लाख लोग प्रतिदिन में दर्शन कर सकेंगे. राम जन्म भूमि ट्रस्ट के महामंत्री चंपत राय ने News18 Hindi को बताया कि यहां दिन रात काम हो रहा है.

उन्‍होंने बताया कि पूरा काम वैज्ञानिक ढंग से किया जा रहा है. अभी बेस बनाने में पांच महीने का वक्‍त लगा है. इसके लिए नियत स्‍थान पर करीब 50 फीट गहराई में कांक्रीट की आधारशिला रखी गई है. वहीं, प्रोजेक्‍ट मैनेजर ने बताया कि दिसंबर 2023 तक राम मंदिर बनकर तैयार हो जाएगा, इसके लिए टाइम लाइन तय की गई है और उसे फालो किया जा रहा है.  ट्रस्ट का दावा है कि 2023 तक रामलला अपने गर्भगृह में बैठ जाएंगे. मंदिर की मजबूती के लिहाज से किसी भी तरीके का समझौता नहीं किया जाएगा.

ये भी पढ़ें :   आखिर क्यों क्रैश हुआ था CDS विपिन रावत का हेलिकॉप्टर, कोर्ट ऑफ इन्क्वायरी में हो गया खुलासा, जानें

ये भी पढ़ें : क्या खत्म हुआ ओमिक्रॉन का पीक? एक्सपर्ट की चेतावनी- अचानक गिरते कोरोना केसों के जाल में न फंसें

वहीं कंस्‍ट्रक्‍शन मैनेजर ने कहा कि मिर्जापुर से पत्‍थर लाए गए हैं. इनसे मंदिर निर्माण होगा. इन्‍हें निर्माण स्‍थल पर ही जमा किया गया है. इन्‍हीं पत्‍थरों पर मंदिर का पूरा भार होगा. मंदिर की ऊंचाई 161 फीट होगी. पूरे मंदिर में कहीं भी लोहे का इस्‍तेमाल नहीं होगा. केवल पत्‍थरों से बनने वाले इस मंदिर की आयु 1000 साल से ज्‍यादा होगी. जनवरी के बाद से पत्‍थर लगाने का काम शुरू हो जाएगा.

जमीन में डाली गई चट्टान करेगी नींव का काम

बीते दिनों 400 फुट लंबा 300 फुट चौड़ा और 50 फुट गहरे भूखंड में चट्टान की भराई की गई थी, जिसका उपयोग मंदिर की बुनियाद के तौर पर किया गया था. मंदिर हजारों वर्ष तक सुरक्षित रहें इसके लिए ट्रस्ट और इंजीनियर प्रयासरत हैं. भारत के इतिहास में इतने बड़े भूखंड में इतनी बड़ी बुनियाद कभी नहीं भरी गई है. ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय ने बताया कि रंग महल के बैरियर पर जिस लेवल पर आप खड़े रहते हैं, उस लेवल से लगभग 14 मीटर गहराई तक एक बहुत विशाल क्षेत्र में चट्टान ढाली गई. देश का कोई इंजीनियर नहीं कह सकता कि स्वतंत्र भारत में ऐसी कोई चट्टान जमीन में डाली गई है. यह चट्टान मंदिर की नींव का काम करेगी. चट्टान लगभग एक लाख पचासी हजार घन मीटर क्षेत्र में डाली गई है.

Tags: Ayodhya ram mandir, Ayodhya Ram Mandir Construction, Ram Mandir

Related posts:

Police Found Unclaimed Bag Full Of Money Near Atm In Agra - मथुरा: पुलिस को एटीएम में रखे लावारिस बै...
Budgam Police Busts Gang Of Thieves; Seven Arrested, Goods Worth Five Lakhs Recovered - जम्मू-कश्मीर...
Rahul gandhi to kick off uttarakhand election campaign for congress jp nadda will visit too
Brutal incident of rape attempt in jaipur accused harshly murdered woman dead body thrown in well rj...
Ss rajamouli reveales ram charan and ntr starrer rrr interval scene shooting cost rs 75 lakh per day...
Rohini Court Delhi Blast Drdo Scientist Did Bomb Blast In Rohini Court Police Arrested - रोहिणी कोर्...
Corona's Third Wave Intensified Because Of Election Rallies In Up. - यूपी: दिसंबर में चुनावी रैलियों...
Junior Hockey World Cup defending champion india beat belgium reached in semifinals
Top 10 sports news virat kohli T20 ranking bhuvneshwar kumar blessed with a baby girl
Uttarakhand News: Grand Kashi-divya Kashi Program Will Be Broadcast By Led Screens In 252 Mandals - ...
Mumbai Winter Trends in Twitter netizens Memes
Multibagger IPO Paras Defence issue gives multifold return to allottees in 3 months
How To Make Lips Thin And Beautiful Naturally In Hindi pra
Kharmas End This Year Many Shubh Muhurat For Weddings Maximum In May And Only Four In November See F...
Ruturaj Gaikwad will do wonders for Indian team feels chief selector Chetan Sharma
Covid 19: एक्ट्रेस और टीएमसी सांसद मिमी चक्रवर्ती को हुआ कोरोना, बोलीं- होम आइसोलेशन में हूं

Leave a Comment