Dharma Sansad: Jamiat Wrote A Letter To The Election Commission, Demanding A Ban On Organizing In Aligarh – धर्म संसद: जमीयत ने चुनाव आयोग को लिखा पत्र, अलीगढ़ में आयोजन पर रोक लगाने की मांग की

पीटीआई, नई दिल्ली
Published by: अनुराग सक्सेना
Updated Thu, 13 Jan 2022 10:38 PM IST

सार

अलीगढ़ में धर्म संसद के आयोजन की अनुमति नहीं देने की मांग करने के लिए एएमयू के छात्र संघ के पूर्व अध्यक्ष सलमान इम्तियाज की अगुआई में एक दल ने पिछले सप्ताह जिला प्रशासन से मुलाकात की थी। उनका दावा था कि इससे चुनावी राज्य उत्तर प्रदेश में माहौल गर्मा सकता है।

ख़बर सुनें

मुस्लिमों की प्रमुख संस्था जमीयत उलेमा-ए-हिंद ने गुरुवार को कहा कि उसने चुनाव आयोग और जिला अधिकारी को पत्र लिखकर अलीगढ़ में प्रस्तावित धर्म संसद पर रोक लगाने की मांग की है। जमीयत ने अपने पत्र में कहा कि अलीगढ़ में 22 और 23 जनवरी को या किसी अन्य स्थान पर किसी अन्य तारीख पर प्रस्तावित धर्म संसद के आयोजन पर प्रतिबंध लगे।

संस्था ने ”आदतन हेट स्पीच (समाज में वैमनस्यता फैलाने वाले भाषण देने वालों) देने वालों, गैर कानूनी कार्यवाही में संलिप्त रहने वालों पर कार्रवाई की मांग की और कहा कि शांतिपूर्ण और निष्पक्ष चुनाव कराना चुनाव आयोग की प्राथमिक जिम्मेदारी है।” जमीयत ने अपने पत्र में लिखा, ”ये लोग स्पष्ट रूप से धर्म संसद का आयोजन चुनाव के दौरान समाज में साम्प्रदायिक तनाव फैलाने के लिए कर रहे हैं और उन्हें रोका जाना चाहिए।”

छात्र नेता ने जिला प्रशासन से की थी आयोजन को अनुमति नहीं देने की मांग

अलीगढ़ में धर्म संसद के आयोजन की अनुमति नहीं देने की मांग करने के लिए अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय (एएमयू) के छात्र संघ के पूर्व अध्यक्ष सलमान इम्तियाज की अगुआई में एक दल ने पिछले सप्ताह जिला प्रशासन से मुलाकात की थी। उनका दावा था कि इससे चुनावी राज्य उत्तर प्रदेश में माहौल गर्मा सकता है।

सनातन हिंदू सेवा संस्था ने अलीगढ़ में धर्म संसद के आयोजन का प्रस्ताव रखा है, जिसका मुख्य विषय वर्तमान राजनीति में साधु की भूमिका है। अलीगढ़ जिला प्रशासन ने हालांकि ऐसे किसी भी कार्यक्रम के आयोजन से संबंधित कोई लिखित आवेदन नहीं मिला है।

विस्तार

मुस्लिमों की प्रमुख संस्था जमीयत उलेमा-ए-हिंद ने गुरुवार को कहा कि उसने चुनाव आयोग और जिला अधिकारी को पत्र लिखकर अलीगढ़ में प्रस्तावित धर्म संसद पर रोक लगाने की मांग की है। जमीयत ने अपने पत्र में कहा कि अलीगढ़ में 22 और 23 जनवरी को या किसी अन्य स्थान पर किसी अन्य तारीख पर प्रस्तावित धर्म संसद के आयोजन पर प्रतिबंध लगे।

संस्था ने ”आदतन हेट स्पीच (समाज में वैमनस्यता फैलाने वाले भाषण देने वालों) देने वालों, गैर कानूनी कार्यवाही में संलिप्त रहने वालों पर कार्रवाई की मांग की और कहा कि शांतिपूर्ण और निष्पक्ष चुनाव कराना चुनाव आयोग की प्राथमिक जिम्मेदारी है।” जमीयत ने अपने पत्र में लिखा, ”ये लोग स्पष्ट रूप से धर्म संसद का आयोजन चुनाव के दौरान समाज में साम्प्रदायिक तनाव फैलाने के लिए कर रहे हैं और उन्हें रोका जाना चाहिए।”

Related posts:

Up police recruitment 2022 sarkari naukri 2022 police bharti 2022 apply for the posts of assistant o...
Poisonous liquor case bjp sanjay jaisawal asked jdu Will the families of the dead be sent to jail br...
The annual festival of the temple is the biggest event of the district – News18 हिंदी
Up police car collides with tree in karnal one jawan killed 6 injured hrrm
Delhi: Married Middle-aged Seduced A Woman For Second Marriage Karkardooma Court Worker Booked For R...
कभी-कभी मैदान पर हो जाती है गर्मागर्मी | Jensen said on the altercation with Bumrah, sometimes it ge...
Take a look on unusual guinness world records created in 2021 pratp
इंग्लैंड ने यूएई के खिलाफ शानदार जीत दर्ज की | Under-19 CWC: England register scintillating win agai...
france announced tighter covid restrictions amid omicron variant cases
Jharkhand: A Crazy Lover Killed The Girl A Day Ago And Committed Suicide The Next Day In Garhwa - झा...
मैकडॉनल्ड्स: मैकडॉनल्ड्स ने यूनिसेक्स शौचालय पर ब्राजील के विवाद को जन्म दिया
Crime - संदिग्धों की तलाश में दिल्ली, यूपी और हरियाणा में दबिश
Big Bash League fan trying to catch the ball during match injured himself
कराची : कराची के बाजार में भीषण आग, 35 दुकानें जलकर खाक
Juhi Parama Recovered from Corona And shared emotional video to meet daughter
Family feud between Lalu Prasad and Sadhu Yadav intensified | लालू प्रसाद और साधु यादव के बीच पनपी प...

Leave a Comment