Farmer Returning From Tikri Border Shares Memories Of Kisan Andolan – किसान आंदोलन: दिल्ली से लौटे बुजुर्ग बोले-पिता ने देश की आजादी के लिए लड़ाई लड़ी, मैंने किसानों की आजादी के लिए

भारत भूषण मित्तल, संवाद न्यूज एजेंसी, बठिंडा (पंजाब) 
Published by: निवेदिता वर्मा
Updated Mon, 13 Dec 2021 04:00 PM IST

सार

बुजुर्ग किसान ने बताया कि जो-जो किसानों के साथ टीकरी एवं सिंघु बॉर्डर पर हुआ उसको वो बयां नहीं कर सकते, लेकिन आने वाली पीढ़ियां किसानों की इस दूसरी आजादी की लड़ाई को याद रखेंगी।

किसान अमर सिंह।

किसान अमर सिंह।
– फोटो : संवाद न्यूज एजेंसी।

ख़बर सुनें

विस्तार

दिल्ली के टीकरी बॉर्डर से आंदोलन समाप्त कर किसान अपने घरों को लौट रहे हैं। रविवार को बठिंडा के रास्ते अपने गांव बरगाड़ी जा रहे अमर सिंह खालसा ने बताया कि किसानों ने कृषि कानून वापस करवाने के लिए आजादी की दूसरी लड़ाई लड़ी है। किसानों को देश के लोगों का भरपूर साथ मिला जिस कारण आज किसान जीत हासिल करने के बाद अपने घरों को वापस जा रहे हैं। 

किसान अमर सिंह बरगाड़ी ने बताया कि उनके पिता ने देश की आजादी के लिए लड़ाई लड़ी थी और उन्होंने पिछले एक वर्ष 8 दिन से किसानों की आजादी के लिए कृषि कानूनों के खिलाफ लड़ाई लड़ी। उन्होंने बताया कि वह भारतीय किसान यूनियन एकता उगराहां से संबंधिंत हैं। जो-जो किसानों के साथ टीकरी एवं सिंघु बॉर्डर पर हुआ उसको वो बयां नहीं कर सकते, लेकिन आने वाली पीढ़ियां किसानों की इस दूसरी आजादी की लड़ाई को याद रखेंगी। टीकरी बॉर्डर पर दिल्ली पुलिस एवं केंद्र सरकार की एजेंसियों और शरारती तत्वों द्वारा किसानों को दबाने का प्रयास भी किया गया था। लेकिन किसानों ने अपनी एकता का सबूत देते हुए शरारती तत्वों को गड़बड़ करने से रोका। 

एक वर्ष 8 दिन बाद घर लौटूंगा  

किसान अमर सिंह ने बताया कि उनकी आयु लगभग 70 साल है। वे किसान आंदोलन की शुरुआत से ही दिल्ली के टीकरी बॉर्डर पर बरगाड़ी ब्लॉक के किसानों के साथ पहुंच गए थे। उन्होंने पहले दिन से ही सोच लिया था कि या तो कृषि कानून वापस करवाकर जाएंगे नहीं तो उनका शव किसान यूनियन के झंडे में लिपट कर वापस जाएगा। 

कृषि कानून वापस करवाना आसान नहीं था 

किसान अमर सिंह ने बताया कि देश की केंद्र भाजपा सरकार लगातार किसानों का दबाने का प्रयास कर रही थी और मीडिया को अपने इशारों पर नचाकर किसानों के खिलाफ आए दिन झूठी खबरें चलाई जा रही थी। इसके चलते कभी कभी लगता था कि कृषि कानून वापस करवाना आसान नहीं है, लेकिन किसानों की एकता को केंद्र सरकार तोड़ने में नाकाम रही और खुद एक वर्ष बाद किसानों के आगे झुक गई। 

अब आम लोगों के हकों के लिए पंजाब भर में किसान लड़ेंगे लड़ाई

किसान अमर सिंह ने बताया कि केंद्र सरकार को हराकर किसान अब घरों को लौट रहे हैं। अब किसान प्रदेश के आम लोगों के हकों के लिए लड़ाई लड़ेंगे। अब लोग किसानों के साथ अपने हकों के लिए लड़ाई लड़ा करेंगे।  

Related posts:

Madhya Pradesh: Sahitya Akademi's Remaining Award For The Year 2017 Announced - मध्य प्रदेश: साहित्य...
One Killed And One Injured In Road Accident - Road Accident: वाहन की टक्कर से युवक की मौत, एक गंभीर ...
Scientists Create Magical Bubble That Popped After 465 Days pratp
Earthquake Of Magnitude 6.3 Strikes 175 Km E Of Chittagong, Bangladesh - भूकंप: भारत- म्यांमार सीमा ...
Myanmar court jails ousted civilian leader aung san suu kyi for four years
Bhabi Ji Ghar Par Hai anita bhabhi Neha Pendse corona positive - 'भाबीजी घर पर हैं' की अनीता भाभी हु...
High Court Seeks Response From Central Government On Petition Of Ayush Candidates Against Neet - Del...
Up Assembly Election 2022 Satta Ka Sangram In Agra Chai Par Chunavi Charcha Youth Ki Baat Aadhi Aaba...
Pro kabaddi league 2021 22 u mumba vs up yoddha, bengaluru bulls vs telugu titans dabang delhi vs ta...
Up Elections 2022 Debate With People In Etah - एटा पहुंचा अमर उजाला का चुनावी रथ: 'चाय पर चर्चा' में...
Supreme court panel urges citizens with pegasus infected devices to contact it by january 7
Hello, Police Control Room Girlfriend Is Not Picking Up The Phone, Please Make Me Talk - हैलो, पुलिस...
Best android smartphone under 8 thousand rupees samsung new budget phone 5000mah battery aaaq
Kareena kapoor son taimur ali khan rockstar in red headband father saif ali khan tries to match him ...
Langar Open In Baba Balak Nath Temple Deotsidh - हमीरपुर: बाबा बालक नाथ में डेढ़ साल बाद खुला लंगर, ...
IAS Wife Files Police Complaint against IAS Husband says He Beats me regularly in Lucknow Uttar Prad...

Leave a Comment