Germany Navy Chief Schönbach Resigns Over Comments On Russian President Vladimir Putin Crimea And Ukraine Crisis News And Updates – जर्मनी के नौसेना प्रमुख का इस्तीफा: भारत में अपने देश के रुख के खिलाफ जाकर यूक्रेन संकट-क्रीमिया पर बोले, पुतिन की तारीफ की थी

वर्ल्ड डेस्क, अमर उजाला, बर्लिन
Published by: कीर्तिवर्धन मिश्र
Updated Sun, 23 Jan 2022 05:17 AM IST

सार

श्योनबाख ने रूस और यूक्रेन संकट के साथ क्रीमिया पर दिए अपने बयान को लेकर सोशल मीडिया पर खेद भी जताया है। इसी के साथ उन्होंने अपना इस्तीफा जर्मनी की रक्षा मंत्री क्रिस्टीन लैंब्रेख्त को भेज दिया।

जर्मनी के नौसेना प्रमुख के. आचिम श्योनबाख ने भारत में दो दिन पहले कार्यक्रम में हिस्सा लिया था।
– फोटो : Twitter/@IDSAIndia

ख़बर सुनें

जर्मनी के नौसेना प्रमुख के एचिम शॉनबाख ने हाल ही में भारत में एक कार्यक्रम के दौरान अपने ही देश की नीतियों के खिलाफ जाकर यूक्रेन संकट पर उल्टा बयान दिया था। साथ ही उन्होंने रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन की तारीफ करते हुए उन्हें सम्मान देने की बात कही थी। अपने नौसेना प्रमुख के ये बयान जर्मन सरकार को कुछ खास रास नहीं आए हैं, जिसके बाद श्योनबाख को रविवार को अपने पद से इस्तीफा देना पड़ा है। 

शॉनबाख ने रूस और यूक्रेन संकट के साथ क्रीमिया पर दिए अपने बयान को लेकर सोशल मीडिया पर खेद भी जताया है। इसी के साथ उन्होंने अपना इस्तीफा जर्मनी की रक्षा मंत्री क्रिस्टीन लैंब्रेख्त को भेज दिया और खुद को ड्यूटी से तत्काल बर्खास्त करने की मांग रख दी। नौसेना प्रमुख ने बताया कि उनकी इस मांग को रक्षा मंत्री ने मान भी लिया है। 

भारत में एक कार्यक्रम के दौरान दिया था जर्मनी की नीति के उलट बयान
शॉनबाख जर्मन नौसेना प्रमुख के तौर पर शुक्रवार को नई दिल्ली में मनोहर पर्रिकर इंस्टीट्यूट ऑफ डिफेंस स्टडीज एंड एनालिसिस में रखे गए एक कार्यक्रम में हिस्सा लेने पहुंचे थे। यहां उन्होंने यूक्रेन संकट पर जर्मनी और यूरोप के रुख से इतर जाते हुए रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन की तारीफ की थी। उनके बयान का जो वीडियो यूट्यूब पर वायरल हुआ था, उसमें श्योनबाख यह भी कहते सुने गए थे कि रूस एक पुराना और अहम देश है। 

इतना ही नहीं अपने बयान में जर्मनी के नौसेना प्रमुख ने कहा था कि यूक्रेन में रूस की कार्रवाई से सख्ती से निपटना चाहिए। हालांकि, उन्होंने क्रीमिया पर पश्चिमी देशों की नीति के खिलाफ जाते हुए यह भी कह दिया था कि रूस द्वारा कब्जाए गए क्रीमिया प्रायद्वीप का मामला अब हाथ से निकल चुका है। उन्होंने कहा था, “वह (क्रीमिया) जा चुका है और अब कभी वापस नहीं आएगा। ये एक तथ्य है।” 

क्रीमिया और यूक्रेन संकट पर ये है यूरोप-अमेरिका का रुख
गौरतलब है कि जर्मन नौसेना प्रमुख का क्रीमिया पर दिया बयान सीधे तौर पर यूरोप-अमेरिका के रुख के उलट है। वॉशिंगटन और पश्चिमी देशों का कहना है मॉस्को ने 2014 में यूक्रेन पर हमला कर क्रीमिया प्रायद्वीप पर अवैध तरीके से कब्जा कर लिया था। इसलिए क्रीमिया को यूक्रेन को लौटाया जाना चाहिए। 

इसके अलावा यूक्रेन संकट को लेकर भी अमेरिका-यूरोप अपना रुख साफ कर चुके हैं। दोनों ने ही रूस पर आरोप लगाया है कि वह यूक्रेन पर हमला करने के लिए साजिश रच रहा है। अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन तो यहां तक कह चुके हैं कि व्लादिमीर पुतिन यूक्रेन पर कब्जा कर उसे एक बार फिर सोवियत संघ के दौर का रूप देना चाहते हैं। 

तानाशाहों और हत्यारों को पैसा दे रहा है चीन : जर्मन नौसेना प्रमुख
जर्मनी नौसेना के प्रमुख वाइस एडमिरल के एचिम शॉनबाख ने कहा है कि चीन दुनिया के तानाशाहों और हत्यारों को पैसा दे रहा है ताकि वो अपने देश के संसाधन चीन के हवाले कर दें। शॉनबाख भारत यात्रा पर हैं और यहां मनोहर परिकर इंस्टीट्यूट फॉर डिफेंस स्टडीज एंड एनालिसिस द्वारा आयोजित एक संवाद सत्र के दौरान शुक्रवार को उन्होंने यह बात कही। चीन को एक आधिपत्यवादी ताकत करार देते हुए उन्होंने कहा कि कम्युनिस्ट देश अंतरराष्ट्रीय स्तर पर दबाव बनाने के लिए पैसे और ताकत का इस्तेमाल कर रहा है। वह कुछ देशों के साथ दुश्मनों जैसा व्यवहार कर रहा है और इन देशों के साथ निपटने में छिपे एजेंडे से काम कर रहा है।

चीन द्वारा तकनीक की चोरी का उदाहरण देते हुए उन्होंने जर्मनी की कूका रोबोटिक्स की चर्चा की। उन्होंने कहा कि इस कंपनी का एक निजी चीनी कंपनी ने अधिग्रहण कर लिया और इस तरह से पूरी तकनीक चीन के पास चली गई और चीन इसके बदले किसी को कोई भुगतान भी नहीं कर रहा।

बयान को लेकर फंसे 
हालांकि शॉनबाख के इस बयान को लेकर जर्मनी में विवाद हो गया है। शनिवार को वाइस एडमिरल शॉनबाख से जर्मन रक्षा मंत्रालय ने उनकी टिप्पणी को लेकर जवाब मांगा। जर्मनी के बाइल्ड समाचार पत्र ने लिखा है कि शॉनबाख की टिप्पणी जर्मन सरकार का आधिकारित रुख नहीं है। शॉनबाख को इस टिप्पणी को लेकर इंस्पेक्टर जनरल के सामने सफाई देने का मौका दिया गया है। दिल्ली स्थित जर्मन दूतावास ने भी इस पर टिप्पणी करने से मना कर दिया है।

विस्तार

जर्मनी के नौसेना प्रमुख के एचिम शॉनबाख ने हाल ही में भारत में एक कार्यक्रम के दौरान अपने ही देश की नीतियों के खिलाफ जाकर यूक्रेन संकट पर उल्टा बयान दिया था। साथ ही उन्होंने रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन की तारीफ करते हुए उन्हें सम्मान देने की बात कही थी। अपने नौसेना प्रमुख के ये बयान जर्मन सरकार को कुछ खास रास नहीं आए हैं, जिसके बाद श्योनबाख को रविवार को अपने पद से इस्तीफा देना पड़ा है। 

शॉनबाख ने रूस और यूक्रेन संकट के साथ क्रीमिया पर दिए अपने बयान को लेकर सोशल मीडिया पर खेद भी जताया है। इसी के साथ उन्होंने अपना इस्तीफा जर्मनी की रक्षा मंत्री क्रिस्टीन लैंब्रेख्त को भेज दिया और खुद को ड्यूटी से तत्काल बर्खास्त करने की मांग रख दी। नौसेना प्रमुख ने बताया कि उनकी इस मांग को रक्षा मंत्री ने मान भी लिया है। 

भारत में एक कार्यक्रम के दौरान दिया था जर्मनी की नीति के उलट बयान

शॉनबाख जर्मन नौसेना प्रमुख के तौर पर शुक्रवार को नई दिल्ली में मनोहर पर्रिकर इंस्टीट्यूट ऑफ डिफेंस स्टडीज एंड एनालिसिस में रखे गए एक कार्यक्रम में हिस्सा लेने पहुंचे थे। यहां उन्होंने यूक्रेन संकट पर जर्मनी और यूरोप के रुख से इतर जाते हुए रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन की तारीफ की थी। उनके बयान का जो वीडियो यूट्यूब पर वायरल हुआ था, उसमें श्योनबाख यह भी कहते सुने गए थे कि रूस एक पुराना और अहम देश है। 

इतना ही नहीं अपने बयान में जर्मनी के नौसेना प्रमुख ने कहा था कि यूक्रेन में रूस की कार्रवाई से सख्ती से निपटना चाहिए। हालांकि, उन्होंने क्रीमिया पर पश्चिमी देशों की नीति के खिलाफ जाते हुए यह भी कह दिया था कि रूस द्वारा कब्जाए गए क्रीमिया प्रायद्वीप का मामला अब हाथ से निकल चुका है। उन्होंने कहा था, “वह (क्रीमिया) जा चुका है और अब कभी वापस नहीं आएगा। ये एक तथ्य है।” 

क्रीमिया और यूक्रेन संकट पर ये है यूरोप-अमेरिका का रुख

गौरतलब है कि जर्मन नौसेना प्रमुख का क्रीमिया पर दिया बयान सीधे तौर पर यूरोप-अमेरिका के रुख के उलट है। वॉशिंगटन और पश्चिमी देशों का कहना है मॉस्को ने 2014 में यूक्रेन पर हमला कर क्रीमिया प्रायद्वीप पर अवैध तरीके से कब्जा कर लिया था। इसलिए क्रीमिया को यूक्रेन को लौटाया जाना चाहिए। 

इसके अलावा यूक्रेन संकट को लेकर भी अमेरिका-यूरोप अपना रुख साफ कर चुके हैं। दोनों ने ही रूस पर आरोप लगाया है कि वह यूक्रेन पर हमला करने के लिए साजिश रच रहा है। अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन तो यहां तक कह चुके हैं कि व्लादिमीर पुतिन यूक्रेन पर कब्जा कर उसे एक बार फिर सोवियत संघ के दौर का रूप देना चाहते हैं। 

तानाशाहों और हत्यारों को पैसा दे रहा है चीन : जर्मन नौसेना प्रमुख

जर्मनी नौसेना के प्रमुख वाइस एडमिरल के एचिम शॉनबाख ने कहा है कि चीन दुनिया के तानाशाहों और हत्यारों को पैसा दे रहा है ताकि वो अपने देश के संसाधन चीन के हवाले कर दें। शॉनबाख भारत यात्रा पर हैं और यहां मनोहर परिकर इंस्टीट्यूट फॉर डिफेंस स्टडीज एंड एनालिसिस द्वारा आयोजित एक संवाद सत्र के दौरान शुक्रवार को उन्होंने यह बात कही। चीन को एक आधिपत्यवादी ताकत करार देते हुए उन्होंने कहा कि कम्युनिस्ट देश अंतरराष्ट्रीय स्तर पर दबाव बनाने के लिए पैसे और ताकत का इस्तेमाल कर रहा है। वह कुछ देशों के साथ दुश्मनों जैसा व्यवहार कर रहा है और इन देशों के साथ निपटने में छिपे एजेंडे से काम कर रहा है।

चीन द्वारा तकनीक की चोरी का उदाहरण देते हुए उन्होंने जर्मनी की कूका रोबोटिक्स की चर्चा की। उन्होंने कहा कि इस कंपनी का एक निजी चीनी कंपनी ने अधिग्रहण कर लिया और इस तरह से पूरी तकनीक चीन के पास चली गई और चीन इसके बदले किसी को कोई भुगतान भी नहीं कर रहा।

बयान को लेकर फंसे 

हालांकि शॉनबाख के इस बयान को लेकर जर्मनी में विवाद हो गया है। शनिवार को वाइस एडमिरल शॉनबाख से जर्मन रक्षा मंत्रालय ने उनकी टिप्पणी को लेकर जवाब मांगा। जर्मनी के बाइल्ड समाचार पत्र ने लिखा है कि शॉनबाख की टिप्पणी जर्मन सरकार का आधिकारित रुख नहीं है। शॉनबाख को इस टिप्पणी को लेकर इंस्पेक्टर जनरल के सामने सफाई देने का मौका दिया गया है। दिल्ली स्थित जर्मन दूतावास ने भी इस पर टिप्पणी करने से मना कर दिया है।

Related posts:

Chhattisgarh Writing habit of children changed due to online class
Himachal Weather Report yellow alert issued fresh snowfall in lahaul rain in shimla and mandi hpvk
Sara Ali Khan-Kamal Nath News: Congress furious over Sara Ali Khan Mahakal Darshan, ask why ex cm ka...
Delhi Bad Life Style Took 28 Year Old To Hospital There He Get Cardiac Arrest Hardly Saved - दिल्ली:...
Up Neet Counselling 2021 Registration Begins Uttar Pradesh Neet Schedule Check Dates Verification Pr...
Tears Spilled When I Saw The Condition Of The Wife - पत्नी की हालत देखी तो आंसू छलक आए
Former Ips Aseem Arun Meets Bjp State Chief Swatantra Dev Singh In Lucknow. - यूपी: भाजपा के प्रदेश ...
Customer asked shopkeeper to adjust face mask man punches him in face australia news ashas
Valentine Day 2022 Celebration At Best Rooftop Restaurants And Hotels In Delhi - Valentine Day 2022:...
Breathlessness in long covid patients may be a sign of heart problem study nav - लॉन्ग कोविड मरीजों ...
Delhi: On The Complaint Of Child Labor, Sdm Had Raided, Sex Racket Was Going On, Fourteen Including ...
Sarkari naukri result 2021 government jobs assistant professor bharti 2021 CGPSC ukpsc rpsc invited ...
Crime - पुलिस ने आईपीएल खिलाड़ी को मारा मुक्का
Mouni roy destination marriage tips for beach wedding in hindi
Meerut Police made a man blind an eyewitness in frogery case claim accuse
Uttarakhand News: Crores People Did Surya Namaskar On Makar Sankranti, Online Event Organized By Min...

Leave a Comment