Health news scientists trace brains decision making process nav

Scientists trace brain’s decision-making process : यूनिवर्सिटी ऑफ कैलिफोर्निया (University of California) के रिसर्चर्स की तरफ से किए गए हालिया अध्ययन में साइंटिस्टों ने ब्रेन के उस क्षेत्र/एरिया का पता लगाया है, जहां अपनी पसंद से जुड़े अहम निर्णय लिए जाते हं. साइंस की भाषा में ब्रेन के उस क्षेत्र को आरएससी (RSC) यानी रेस्ट्रोस्प्लेनियल कार्टेक्स (Restrosplenial Cortex) कहा जाता है. साइंटिस्टों ने अपनी रिसर्च के दौरान पाया कि ये ब्रेन का वो क्षेत्र है, जिसका इस्तेमाल हम अपनी पसंद के विकल्पों को चुनने के लिए करते हैं. मतलब हमें क्या पसंद आता है, क्या नहीं पसंद आता है, ये सब इसी आएससी से निर्धारित होता है. उदाहरण के लिए आप इसे ऐसे समझिए, जैसे आपको आज डिनर के लिए जाना है, तो आपके इन विकल्पों में डिनर के लिए रेस्टोरेंट को चुनना भी शामिल हो सकता है. इतनी ही नहीं, आरएससी को को हम इस इंफोर्मेशन से अपडेट भी करते हैं कि रेस्तरां में परोसा गया सूप व पास्ता का टेस्ट कैसा था और हमने उसको कितना इंजॉय किया.

इस स्टडी का निष्कर्ष ‘न्यूरॉन (Neuron)’ जर्नल में प्रकाशित किया गया है.

क्या कहते हैं जानकार
यूनिवर्सिटी ऑफ कैलिफोर्निया में डिविजन बायोलॉजिकल साइंस के रिसर्चर रयोमा हटोरी (Ryoma Hattori) और प्रोफेसर तकाकी कोमियामा (Takaki Komiyama) के नेतृत्व में हुई इस स्टडी में इसका ब्योरा पेश किया गया है कि गतिशील सूचनाओं (dynamic notifications) को कैसे प्रक्रिया में लाया जाता है.

यह भी पढ़ें-
फिजिकल वर्कआउट के दौरान यह बड़ी गलती बनती है हाइपोथर्मिया और हाइपरथर्मिया की वजह, जानें कैसे..

रयोमा हटोरी (Ryoma Hattori) के अनुसार हैं ‘चूहों पर की गई स्टडी में हमने पाया कि उसके ब्रेन का आरएससी पसंद की सूचनाओं को स्थायी कोश के रूप में काम करता है.’

ऐसे रखें ब्रेन को हेल्दी
अमेरिका स्थित आरहूस यूनिवर्सिटी (Aarhus University)के रिसर्चर्स ने एक नई स्टडी में पाया कि संतुलित आहार यानी बैलेंस डाइट (Balanced Diet) से ब्रेन में रक्तस्राव (Bleeding) या खून जमने (Clotting) का खतरा कम हो जाता है.

यह भी पढ़ें-
Cancer Prevention Tips: शोध रिपोर्ट- लाइफस्टाइल में इन दो बदलावों से काफी कम हो जाता है कैंसर का खतरा

अमेरिका के पब्लिक हेल्थ डिपार्टमेंट (public health department) की तरफ से कराई गई इस स्टडी के निष्कर्ष ‘स्ट्रोक (Stroke)‘ जर्नल में प्रकाशित किए गए हैं. इसमें कहा गया है कि वेजिटेरियन (vegetarian) खाद्य पदार्थों का ज्यादा सेवन और नॉन-वेज (मांसाहार) खाद्य पदार्थों का कम सेवन हेल्थ के लिए अच्छा होता है.

Tags: Brain, Brain power, Health, Lifestyle, Mental health

Related posts:

Amar Ujala Aparajita: Seeta Devi Inspiring Story For Youth Hamirpur Himachal Pradesh - अपराजिता: अचा...
Today Is The Last Day Of B.tech Admission For The Fourth Phase - जैक दिल्ली : चौथे चरण के लिए बीटेक ...
Delhi police arrested three auto lifters along with gand leader
Tourists from Punjab and Haryana attacked taxi driver with sword in Manali 6 arrested hrrm
Satire in Chhattisgarhi an essay on how mother cow is helping to all
IND vs SA Mohammad Shami gets emotional shared his story of struggles after taking 5 wicket in centu...
Start poultry farming with Rs 50000 and earn 1 lakh rupees per month know how achs
New York: Us Government Condemns Assault On Sikh Taxi Driver And Tossing Turban, Says- Will Not Spar...
IPL 2022 ravichandran ashwin return to csk spinner opens up on possible return to Chennai super king...
Women officer of Dr Shakuntala Mishra University request to cm yogi for justice in Sexual Harassment...
Jabalpur: From January 12, There Will Be A Competition To Run A 12-day Mp Sports Festival, Pittu, Gi...
Indian Railways Railway Ministry in concern over rail accidents these strict orders issued to all zo...
How to Get Rich Learn new things in the new year know the effective ways that will make you wealthy ...
Entertainment news 3 January live updates Alia Bhatt Bigg Boss 15 Salman Khan ranveer Singh
कैदी ने निगला मोबाइल फोन, अस्पताल में भर्ती | Prisoner swallows mobile phone in Tihar, hospitalized
Uttar Pradesh Assembly Elections 2022 FIR Registered against Congress Candidate Salim Khan in Amroha

Leave a Comment