How dangerous is the Omicron variant compared to the Delta variant? Expert replied | डेल्टा वैरिएंट की तुलना में कितना खतरनाक है ओमिक्रॉन वैरिएंट? एक्सपर्ट ने दिया जवाब 

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। कोरोना वायरस का नया वैरिएंट ओमिक्रॉन तेजी से पूरी दुनिया में अपने पैर पसार रहा है। दक्षिण अफ्रीका में पहली बार स्पॉट किया गया यह वैरिएंट दुनियाभर के 38 देशों तक पहुंच चुका है। भारत की बात करे तो पांच राज्यों में 23 मामलों की पुष्टि हो चुकी है। हालंकि, ओमिक्रॉन से अभी तक एक भी मौत रिपोर्ट नहीं की गई है। इस वैरिएंट में 50 से ज्यादा म्यूटेशन हैं और ये लॉस ऑफ टेस्ट एंड स्मैल या सांस में तकलीफ जैसे लक्षणों को भी ट्रिगर नहीं करता है। 

उधर, भारत में पिछले 24 घंटों में कोविड-19 के 8,439 नए मामले सामने आए हैं और 195 लोगों की मौत हुई है। 

इस बीच अमेरिका के इंफेक्शियस डिसीज एक्सपर्ट डॉ. एंथॉनी फाउची ने मंगलवार को कहा कि SARS-CoV-2 के नए वैरिएंट को देखते हुए कई देशों ने अपनी सीमाओं को फिर से बंद कर दिया है, लेकिन यह पिछले डेल्टा सहित अन्य वैरिएंट्स से ज्यादा खतरनाक नहीं है।

एएफपी को दिए गए एक इंटरव्यू में फाउची ने कहा कि वैरिएंट की पूरी तस्वीर सामने आने में अभी थोड़ा समय और लग सकता है। हालांकि नए वैरिएंट को लेकर कुछ बातें बिल्कुल स्पष्ट हो चुकी हैं।

नए वैरिएंट ओमिक्रॉन फैलने की रफ्तार को लेकर डॉ. फाउची ने कहा कि ओमिक्रॉन स्पष्ट रूप से अधिक संक्रामक है और डेल्टा वैरिएंट की तुलना से इसकी फैलने की रफ्तार बहुत अधिक है। 

वैक्सीनेशन और इम्युनिटी के बारे में पूछे जाने के जवाब में फाउची ने कहा कि पुराना वैक्सीन इस पर प्रभावी रूप से काम कर रहा है और पूरी दुनिया से मिल रहा एपिडेमायोलॉजी डेटा खुद इस बात का सबूत है। आगे उन्होंने कहा कि ओमिक्रॉन के खिलाफ मौजूदा वैक्सीन से बनने वाली एंटीबॉडीज की लैब टेस्टिंग का रिजल्ट कुछ दिनों के भीतर आ जाना चाहिए। 

वैरिएंट की गंभीरता के बारे में पूछे गए सवाल पर डॉक्टर फाउची ने कहा कि ओमिक्रॉन निश्चित रूप से डेल्टा से ज्यादा खतरनाक नहीं है। उन्होंने कहा, “ओमिक्रॉन पिछले वैरिएंट्स की तुलना में कम खतरनाक हो सकता है। अगर आप दक्षिण अफ्रीका की तरफ नजर घुमाएं तो देखेंगे कि वहां संक्रमितों की संख्या और अस्पताल में दाखिल होने वाले मरीजों की संख्या डेल्टा वैरिएंट के मुकाबले कम है।”

फाउची ने आगे कहा, “ये अच्छी बात है कि एक तेजी से फैलने वाला वैरिएंट बहुत ज्यादा गंभीर हालात पैदा नहीं कर रहा है और ना ही हॉस्पिटलाइजेशन और मौत का खतरा बढ़ा रहा है। हालात उस वक्त बदतर होंगे जब तेजी से फैलने वाला वैरिएंट गंभीर बीमारी का कारण बनेगा। मुझे नहीं लगता है कि ऐसी कोई खराब स्थिति आने वाली है। लेकिन आप इस बारे में निश्चित रूप से कुछ नहीं कह सकते हैं।”

Related posts:

UP Chunav In the first phase voting will be held in Muzaffarnagar Baghpat Meerut Ghaziabad NODBK
Pm modi taken holy dip in river ganga before kashi vishwanath corridor inauguration upns - PM मोदी न...
Ludhiana Bomb Blast Explosion In Ludhiana District Court Of Punjab - लुधियाना बम ब्लास्ट की तस्वीरें...
Delhi Weathe Report: Cold Weather In The Capital - दिल्ली का मौसम : राजधानी में कड़ाके की ठंड, कुछ द...
Ind vs sa rahul dravid says middle order did bot perform well rishabh pant shreyas iyer - IND vs SA:...
Human skeleton found in 80 pieces, people shocked over vikas giri murder, police FIR- 80 टुकड़ों में...
Hrtc Volvo Bus Service From Shimla To Chandigarh Airport Mohali - सुविधा: शिमला से चंडीगढ़ एयरपोर्ट ...
Corona 3rd wave confusion among people what happen to band baaja baaraat jhnj
Corona New Variant Covid Deltacron Combination Of Omicron And Delta Latest News Update Today In Hind...
A young man of kurukshetra who went to earn Thailand dies in a road accident hrrm
Medswan Foundation Himachal Staff In 108 And 102 Ambulance Service - मेडसवान फाउंडेशन: हिमाचल के कर्...
Apprentice 2021 apprentice recruitment 2021 sarkari naukri 2021 Last date of application for various...
Finland begins demand for Kovid tests at borders with EU countries | फिनलैंड ने यूरोपीय यूनियन देशों...
Best Inspirational Movie Award To Tea Shop At Narkanda Film - सर्वश्रेष्ठ प्रेरणादायक फिल्म: अब पुणे...
Air France-KLM and IndiGo begin process of implementing codeshare agreement | एयर फ्रांस-केएलएम और इ...
Pm narendra modi to cancel lucknow rally say sources amid coronavirus scare in up election 2022

Leave a Comment