Hyderpora Encounter, Mehbooba Said – Trying To Silence By Threatening Will Not Succeed – हैदरपोरा मुठभेड़ महबूबा के बोल: धमकी देकर चुप कराने की कोशिश नहीं होगी कामयाब 

अमर उजाला नेटवर्क, श्रीनगर
Published by: विमल शर्मा
Updated Fri, 31 Dec 2021 01:20 AM IST

सार

पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पीडीपी) की प्रमुख एवं जम्मू-कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा ने एक ट्वीट में कहा, विभिन्न राजनीतिक दलों द्वारा एसआईटी जांच के बारे में की गई टिप्पणी अटकलबाजी नहीं है। ये जमीनी तथ्य हैं। 

ख़बर सुनें

हैदरपोरा मुठभेड़ की जांच कर रहे विशेष जांच दल (एसआईटी) द्वारा नेताओं को जांच के संबंध में अटकलबाजी करने पर कानूनी कार्रवाई की चेतावनी दिए जाने के बाद पीडीपी अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती ने कहा कि दंडात्मक कार्रवाई की धमकी चेतावनी देकर हमें चुप कराने की कोशिश सफल नहीं होगी।

पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पीडीपी) की प्रमुख एवं जम्मू-कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा ने एक ट्वीट में कहा, विभिन्न राजनीतिक दलों द्वारा एसआईटी जांच के बारे में की गई टिप्पणी अटकलबाजी नहीं है। ये जमीनी तथ्य हैं। सच्चाई के सामने आने से प्रशासन की नाराजगी और असहजता जगजाहिर है।

उन्होंने कहा, दंडात्मक कार्रवाई की चेतवानी से हमें चुप कराने की कोशिश काम नहीं आएगी। बुधवार को, एसआईटी ने एक बयान में कहा था कि नेताओं की अटकलबाजी लोगों में या समाज के एक खास तबके में उकसावे, अफवाह, भय की स्थिति पैदा कर सकती है और इस तरह की चीजें कानून व्यवस्था के खिलाफ हैं तथा इस पर कानूनी कार्रवाई की जा सकती है।

विस्तार

हैदरपोरा मुठभेड़ की जांच कर रहे विशेष जांच दल (एसआईटी) द्वारा नेताओं को जांच के संबंध में अटकलबाजी करने पर कानूनी कार्रवाई की चेतावनी दिए जाने के बाद पीडीपी अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती ने कहा कि दंडात्मक कार्रवाई की धमकी चेतावनी देकर हमें चुप कराने की कोशिश सफल नहीं होगी।

पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पीडीपी) की प्रमुख एवं जम्मू-कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा ने एक ट्वीट में कहा, विभिन्न राजनीतिक दलों द्वारा एसआईटी जांच के बारे में की गई टिप्पणी अटकलबाजी नहीं है। ये जमीनी तथ्य हैं। सच्चाई के सामने आने से प्रशासन की नाराजगी और असहजता जगजाहिर है।

उन्होंने कहा, दंडात्मक कार्रवाई की चेतवानी से हमें चुप कराने की कोशिश काम नहीं आएगी। बुधवार को, एसआईटी ने एक बयान में कहा था कि नेताओं की अटकलबाजी लोगों में या समाज के एक खास तबके में उकसावे, अफवाह, भय की स्थिति पैदा कर सकती है और इस तरह की चीजें कानून व्यवस्था के खिलाफ हैं तथा इस पर कानूनी कार्रवाई की जा सकती है।

Related posts:

उत्तर प्रदेश चुनाव 2022: महिला सुरक्षा और विकास बनेगा सबसे बड़ा चुनावी मुद्दा!
Know Will This Time The Number Of Posts Reserved For Women Increase-safalta - Upsc Nda/na I 2022: पि...
Ten days night curfew and restrictions in haryana from 25 december to 5 january 2022 due to corona o...
Yuvraj singh shared video after harbhajan singh retired he commented love you brother - युवराज सिंह ...
Haiwan Guddan said I am minor will not be punished story of victim of crime in Gopalganj Khushnuma p...
Imd alert for rain and cold wave for 19 districts of bihar from 2 of february bramk
Aurangabad police recovered 579 kilogram ganja while smuggling from odisha to ara bruk
Indian railways installed first solar power plant in bina trains running on solar energy irctc mpsg
Share market today share market live share market closing today 11 january 2022 mlks
Liquor was being brought from UP to Bihar by hiding in tourist bus llegal liquor worth 10 lakhs caug...
Couple got married through metaverse received gifts online from virtual guests at wedding sankri
Murder case After lover Suzanne Malik killed girlfriend monika mandal said teri aukat kya hai refusa...
Nominations Start For Mlc Election In Agra - आगरा में एमएलसी के नामांकन आज से: भाजपा-सपा ने अभी नहीं...
Delhi police deployed 800 policemen for new year security arrangement corona guidelines nodark
जेएनयू ने कहा, हिंसा के प्रति जीरो टॉलरेंस नीति, छात्रों ने मांगी सेक्सुअल हरैसमेंट कमेटी | JNU said...
Up election 2022 chunav gossip in bhopali style rpn singh resignation from congress

Leave a Comment