Jabalpur: The Collector Gave Himself A Clean Chit After Investigating, The High Court Gave Instructions To Get The Investigation Done By The High Committee – जबलपुर: कलेक्टर ने जांच कर खुद को दे दी क्लीन चिट, हाईकोर्ट ने दिए हाई कमेटी से जांच करवाने के निर्देश

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, जबलपुर
Published by: दिनेश शर्मा
Updated Thu, 13 Jan 2022 07:04 PM IST

सार

बालाघाट जिले के तत्कालीन कलेक्टर द्वारा खुद पर लगे आरोप की स्वयं जांच कर क्लीन चिट दिए जाने को हाईकोर्ट में चुनौती दी गई थी। हाईकोर्ट ने जांच के लिए उच्च स्तरीय कमेटी गठित करने के निर्देश दिए हैं।
 

Jabalpur High Court

Jabalpur High Court
– फोटो : सोशल मीडिया

ख़बर सुनें

विस्तार

बालाघाट जिले के तत्कालीन कलेक्टर द्वारा खुद पर लगे आरोप की स्वयं जांच कर क्लीन चिट दिए जाने को हाईकोर्ट में चुनौती दी गई थी। हाईकोर्ट ने जांच के लिए उच्च स्तरीय कमेटी गठित करने के निर्देश दिए हैं।

जानकारी के अनुसार पूर्व विधायक किशोर समरिते की तरफ से दायर की गई याचिका में कहा गया था कि बालाघाट कलेक्टर दीपक आर्य ने कस्टम मिलिंग व चावल के अवैध कारोबारियों, कान्हा स्थित रिसोर्ट संचालकों, रेत ठेकेदारों, कंस्ट्रक्शन कंपनी से रिश्वत के रूप में मंहगे गिफ्ट खुद व परिजनों के नाम पर लिए थे। इस संबंध में उन्होंने केन्द्र सरकार से शिकायत की थी। केन्द्र सरकार ने शिकायत पर कार्रवाई के लिए राज्य सरकार को निर्देशित किया था। राज्य सरकार ने जांच बालाघाट कलेक्टर को ही सौंप दी थी। तत्कालीन कलेक्टर दीपक आर्य ने खुद पर लगे आरोपों की स्वयं जांच की, और खुद को क्लीन चिट प्रदान कर दी।

तत्कालीन कलेक्टर द्वारा खुद की जांच किए जाने के खिलाफ किशोर समरिते ने केन्द्र सरकार से शिकायत की थी। केन्द्र सरकार ने प्रदेश सरकार के मुख्य सचिव को कार्रवाई करने के निर्देश दिए थे। मुख्य सचिव द्वारा शिकायत पर कोई एक्शन नहीं लिए जाने के कारण उक्त याचिका दायर की गई है। याचिका में कहा गया कि नियमानुसार जिस अधिकारी पर आरोप लगे हैं, उसकी जांच वरिष्ठ अधिकारी द्वारा की जानी चाहिए।

हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस रवि विजय कुमार मलिमठ तथा जस्टिस पी के कौरव की युगलपीठ ने याचिका का निराकरण करते हुए अपने आदेश में कहा है कि शिकायत की जांच के लिए उच्च स्तरीय कमेटी गठित की जाए। शिकायत सही पाई जाती है तो संबंधित अधिकारी पर तथा गलत पाए जाने पर याचिकाकर्ता के खिलाफ विधि अनुसार कार्रवाई की जाए। याचिकाकर्ता की तरफ से अधिवक्ता शिवेन्द्र पांडे पैरवी कर रहे हैं। 

 

Related posts:

2.71 Lakh Infected Were Found In The Country, New Cases Decreased By 12 Percent In Delhi - पीक के कर...
Allogeneic bone marrow transplant facility started in banaras nodelsp
Omicron plea in supreme court demands ban on political rally on 5 election states
Fire In Moving Car In Jammu's Satwari, Riders Saved Their Lives By Jumping - आग का गोला बनी कार: जम्...
Two More Days Of Dense Fog And Cold Day Alert In Haryana - हरियाणा में ठंड का कहर: 4.4 डिग्री सेल्सि...
Lucknow: Police Commissioner Dhruvkant Thakur Corana Positive - लखनऊ : पुलिस आयुक्त ध्रुवकांत ठाकुर ...
Bihar police driver constable det 2021 admit card will release on 30 nov download from csbc bih nic ...
Ipl Auction 2022 Shreyas Iyer To Rashid Khan Stokes Cummins Shardul Thakur Ishan Kishan Chahal One B...
Vijay Hazare Trophy After the victory the players did Himachali nati on the ground hrrm
Farrukhabad: BJP MLA's nephew was beaten up hostage
Ujjain: Statement Of The Higher Education Minister- Examinations Will Be Held In The Colleges Of Mp ...
Bjp mp ajay nishad on mukesh shani leaving nda coalition said his 3 mla are with us nodmk8 - Bihar: ...
Onlyfans model posing with his dad shitri
Corona Controlled By Strict Steps Of The Government Says Health Minister Of Delhi - दिल्ली का हाल : ...
Why former pcc chief kishore upadhyay may leave congress amid uttarakhand elections
Miscreants stabbed three people in rajouri garden area

Leave a Comment