Many Major Train Accidents Happened In The Country In Past A Large Number Of Passengers Had To Lose Their Lives – रेल दुर्घटना: देश में पहले भी हुए कई बड़े ट्रेन हादसे, बड़ी संख्या में यात्रियों को गंवानी पड़ी थी जान

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली
Published by: देव कश्यप
Updated Fri, 14 Jan 2022 02:20 AM IST

सार

भारत में रेल दुर्घटनाओं का पुराना इतिहास रहा है। खराब मौसम व कई बार तकनीकि दिक्कतों के चलते देश में कई बड़ी ट्रेन दुर्घटनाएं हुईं हैं। जिसमें कई यात्रियों को अपनी जान गंवानी पड़ी हैं।

पश्चिम बंगाल के दोमोहानी में ट्रेन हादसा।
– फोटो : सोशल मीडिया

ख़बर सुनें

पश्चिम बंगाल के दोमोहानी में गुरुवार को पटना से गुवाहाटी जा रही बीकानेर एक्सप्रेस के कुछ डिब्बे पटरी से उतर गए। जानकारी के मुताबिक, ट्रेन के 12 डिब्बे पटरी से उतरे और ट्रैक के पास ही पलट गए। इस घटना में कम से कम छह लोगों के मारे जाने की खबर है। इसके अलावा 45 लोगों के घायल होने की भी बात सामने आई है। आइए एक नजर हम डालते हैं देश में ट्रेन हादसे के इतिहास पर…

भारत में रेल दुर्घटनाओं का पुराना इतिहास रहा है। खराब मौसम व कई बार तकनीकि दिक्कतों के चलते देश में कई बड़ी ट्रेन दुर्घटनाएं हुईं हैं। इन ट्रेन दुर्घटनाओं में कई यात्रियों को अपनी जान गंवानी पड़ी हैं।

यूपी के एटा जिले के पास हुए हादसे में 69 यात्रियों की गई थी जान
देश के अलग-अलग हिस्सों में हुए पहले की रेल दुर्घटनाओं की बात करें तो उत्तर प्रदेश में एटा जिले के पास 7 जुलाई 2011 को छपरा-मथुरा एक्सप्रेस एक बस से टकरा गई थी। इस हादसे में 69 यात्रियों की जान चली गई थी। उत्तर प्रदेश के एटा जिले का यह हादसा मानवरहित क्रासिंग पर हुआ था। ट्रेन की रफ्तार काफी तेज थी और बस करीब आधे किलोमीटर तक घिसटती चली गई थी। उस वक्त बस की छत पर भी काफी लोग बैठे थे, जो टक्कर के बाद दूर जाकर गिरे थे।

ये भी पढ़ें:- Train Accident: बंगाल में बीकानेर-गुवाहाटी एक्सप्रेस के डिब्बे पटरी से उतरे, छह की मौत, 45 घायल, पीएम मोदी ने लिया जायजा

कानपुर के पुखरायां के पास हुए ट्रेन हादसे में करीब 150 की गई थी जान
ऐसा ही एक हादसा उत्तर प्रदेश के कानपुर के पास पुखरायां में हुआ था। 20 नवंबर 2016 को पुखरायां रेलवे स्टेशन के पास हुए ट्रेन हादसे में कम से कम 150 यात्रियों ने अपनी जान गवाई थी।

साल 2012 में हुए सबसे ज्यादा ट्रेन हादसे
भारतीय रेलवे के इतिहास में साल 2012 हादसों के मामले से सबसे बुरे सालों में से एक रहा था। साल 2012 में लगभग 14 ट्रेन हादसे हुए थे। इस साल ट्रेन के डिब्बे पटरी से उतरने और आमने-सामने ट्रेनों की टक्कर दोनों तरह के हादसे हुए थे। 30 जुलाई 2012 को दिल्ली से चेन्नई जाने वाली तमिलनाडु एक्सप्रेस के एक कोच में नेल्लोर के पास आग लग गई थी जिसमें 30 से ज्यादा यात्रियों की मौत हुई थी।

आंध्र प्रदेश के इस ट्रेन हादसे में 39 की गई थी जान
वहीं, 22 जनवरी 2017 को आंध्र प्रदेश के विजयनगरम जिले में एक बड़ा ट्रेन हादसा हो गया था। हीराखंड एक्सप्रेस के आठ डिब्बे पटरी से उतर गए थे। इस ट्रेन हादसे में करीब 39 लोगों की जान चली गई थी।

विस्तार

पश्चिम बंगाल के दोमोहानी में गुरुवार को पटना से गुवाहाटी जा रही बीकानेर एक्सप्रेस के कुछ डिब्बे पटरी से उतर गए। जानकारी के मुताबिक, ट्रेन के 12 डिब्बे पटरी से उतरे और ट्रैक के पास ही पलट गए। इस घटना में कम से कम छह लोगों के मारे जाने की खबर है। इसके अलावा 45 लोगों के घायल होने की भी बात सामने आई है। आइए एक नजर हम डालते हैं देश में ट्रेन हादसे के इतिहास पर…

भारत में रेल दुर्घटनाओं का पुराना इतिहास रहा है। खराब मौसम व कई बार तकनीकि दिक्कतों के चलते देश में कई बड़ी ट्रेन दुर्घटनाएं हुईं हैं। इन ट्रेन दुर्घटनाओं में कई यात्रियों को अपनी जान गंवानी पड़ी हैं।

यूपी के एटा जिले के पास हुए हादसे में 69 यात्रियों की गई थी जान

देश के अलग-अलग हिस्सों में हुए पहले की रेल दुर्घटनाओं की बात करें तो उत्तर प्रदेश में एटा जिले के पास 7 जुलाई 2011 को छपरा-मथुरा एक्सप्रेस एक बस से टकरा गई थी। इस हादसे में 69 यात्रियों की जान चली गई थी। उत्तर प्रदेश के एटा जिले का यह हादसा मानवरहित क्रासिंग पर हुआ था। ट्रेन की रफ्तार काफी तेज थी और बस करीब आधे किलोमीटर तक घिसटती चली गई थी। उस वक्त बस की छत पर भी काफी लोग बैठे थे, जो टक्कर के बाद दूर जाकर गिरे थे।

ये भी पढ़ें:- Train Accident: बंगाल में बीकानेर-गुवाहाटी एक्सप्रेस के डिब्बे पटरी से उतरे, छह की मौत, 45 घायल, पीएम मोदी ने लिया जायजा

कानपुर के पुखरायां के पास हुए ट्रेन हादसे में करीब 150 की गई थी जान

ऐसा ही एक हादसा उत्तर प्रदेश के कानपुर के पास पुखरायां में हुआ था। 20 नवंबर 2016 को पुखरायां रेलवे स्टेशन के पास हुए ट्रेन हादसे में कम से कम 150 यात्रियों ने अपनी जान गवाई थी।

साल 2012 में हुए सबसे ज्यादा ट्रेन हादसे

भारतीय रेलवे के इतिहास में साल 2012 हादसों के मामले से सबसे बुरे सालों में से एक रहा था। साल 2012 में लगभग 14 ट्रेन हादसे हुए थे। इस साल ट्रेन के डिब्बे पटरी से उतरने और आमने-सामने ट्रेनों की टक्कर दोनों तरह के हादसे हुए थे। 30 जुलाई 2012 को दिल्ली से चेन्नई जाने वाली तमिलनाडु एक्सप्रेस के एक कोच में नेल्लोर के पास आग लग गई थी जिसमें 30 से ज्यादा यात्रियों की मौत हुई थी।

आंध्र प्रदेश के इस ट्रेन हादसे में 39 की गई थी जान

वहीं, 22 जनवरी 2017 को आंध्र प्रदेश के विजयनगरम जिले में एक बड़ा ट्रेन हादसा हो गया था। हीराखंड एक्सप्रेस के आठ डिब्बे पटरी से उतर गए थे। इस ट्रेन हादसे में करीब 39 लोगों की जान चली गई थी।

Related posts:

जींद में दो कारों की भीषण टक्कर, 2 की मौत, गर्भवती महिला की टांग टूटी – News18 हिंदी
6 year old kid kidnapped police raided no clue found nodelsp
Pm Narendra Modi Government Sale Cheapest Gold In India Sovereign Gold Bond Price Today: Know Rates ...
Sahebganj police of jharkhand seized mobile sets of 50 lac in raid bramk
Bihar sex scandal sexual abuse case registered against bakhtiyarpur circle officer raghuveer prasad ...
If you want to live in Jharkhand you have to say Jai Johar Congress MLA Irfan Ansari challenges BJP ...
UP Congress organise Spokesperson exam and interview in agra before up chunav upns
Kareena kapoor counting isolation days wrote on instagram stories - करीना कपूर कोरोना पॉजिटिव होने क...
Doctors dancing with alcohol bottlel viral video of gonda upns
Aam Aadmi Party Releases Fifth List Of 15 Candidates For 2022 Punjab Assembly Elections - पंजाब विधा...
Indian railways are being built subway on these rail crossing of uttar pratesh routes
One Crore Rupees Fraud With Farmers In The Name Of Fish Farming In Agra - आगरा: मछली पालन के नाम पर ...
Farmers Protest End Delhi Police Standing On Borders Sometimes Got Love, Sometimes Taunts - किसान आं...
Vitamin B12 Deficiency causes Minimal Cognitive Impairment And Dementia neer
Cabinet Minister Jitin Prasad Targets Samajwadi Party, Bsp And Congress In Mathura - मथुरा में बोले ...
Prayagraj: Bua And Babua Did Not Leave Their Homes During Corona Epidemic - सीएम योगी बोले : कोरोना ...

Leave a Comment