Prayagraj Magh Mela: Lakhs Of Devotees Take Dip In Sangam On Makar Sankranti – प्रयागराज माघ मेला : मकर संक्रांति पर लाखों श्रद्धालुओं ने संगम में लगाई पुण्य की डुबकी

सार

सूर्योदय के साथ ही संगम के किनारे बनाए गए सभी दर्जन भर घाट श्रद्धालुओं से पट गए। इस बार मकर संक्रांति की मान्यता दो दिन होने के कारण शुक्रवार को भी बड़ी संख्या में श्रद्धालुओं ने संगम में डुबकी लगाई थी।

Prayagraj News : मकर संक्रांति पर स्नान के लिए संगम तट पर उमड़े श्रद्धालु।
– फोटो : prayagraj

ख़बर सुनें

भगवान भास्कर के उत्तरायण होने के बाद लाखों श्रद्धालुओं ने मकर संक्रांति के पुण्यकाल में गंगा-यमुना और सरस्वती के पवित्र संगम में डुबकी लगाई और विधि विधान से मां गंगा का पूजन अर्चन किया। कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच शनिवार को पुण्यकाल में लाखों श्रद्धालुओं ने गंगा स्नान किया। संगम में डुबकी लगाने का सिलसिला रात भोर में चार बजे के बाद ही शुरू हो गया था।

सूर्योदय के साथ ही संगम के किनारे बनाए गए सभी दर्जन भर घाट श्रद्धालुओं से पट गए। इस बार मकर संक्रांति की मान्यता दो दिन होने के कारण शुक्रवार को भी बड़ी संख्या में श्रद्धालुओं ने संगम में डुबकी लगाई थी। शनिवार को भी श्रद्धालुओं का रेला उमड़ा। संगम स्नान के बाद श्रद्धालुओं ने लेटे हनुमानजी का दर्शन पूजन किया। जय श्री राम और जय बजरंग बली के जयकारे से पूरा मेला क्षेत्र गुंजायमान रहा। सुरक्षा व्यवस्था के व्यापक बंदोबस्त किए गए हैं।

भोर से ही शुरू हो गया डुबकी लगाने का सिलसिला
माघ मकरगत रबि जब होई/तीरथपतिहिं आव सब कोई…। तुलसी की यह चौपाई में संगम की रेती पर लगने वाले माघ मेले की महिमा बताने के लिए काफी है। यानी माघ महीने में सूर्य जिस तिथि को मकर राशि में पहुंचते हैं, उस दिन तीर्थराज प्रयाग में संगम पर डुबकी लगाने के लिए आने से कोई भी नहीं बच पाता। सुरसरि की सुरम्य गोद में अक्षय वट से लेकर त्रिवेणी, काली और गंगोली शिवाला मार्ग तक संतों, भक्तों, कल्पवासियों के शिविर तन गए हैं।

इसी के साथ सूर्य के उत्तरायण होने के साथ मकर संक्रांति के प्रथम स्नान पर्व पर पुण्य की डुबकी लगाने के लिए शनिवार को को श्रद्धालुओं का रेला उमड़ पड़ा। पुण्य की डुबकी के साथ ही संगम पर मास पर्यंत चलने वाले जप-तप, ध्यान का संगम भी अपना आकार ले चुका है। 

मन, वचन और कर्म तीनों प्रकार से जाने-अनजाने में हुए पापों से मुक्त होने के लिए महीने भर ध्यान और स्नान का मेला मिलन की भूमि संगम पर आकार ले चुका है। सूर्य के उत्तरायण होने के साथ डुबकी लगाने का सिलसिला शुरू हो गया। हर हर महादेव और हर गंगे के उद्घोष के साथ श्रद्धालुओं ने अमृतमयी गंगा में डुबकी लगाकर रोग, दोष, विकार और पापों से मुक्ति की कामना की।

16 प्रवेश द्वारों पर थर्मल स्क्रीनिंग, 12 सर्विलांस टीमें तैनात
मेला प्रशासन ने कोविड प्रोटोकॉल के बीच स्नान की तैयारियों को अंतिम रूप दे दिया है। मेले के सभी 16 प्रवेश द्वारों और पार्किंग स्थलों पर थर्मल स्क्रीनिंग की व्यवस्था की गई है। इसके अलावा प्रत्येक सेक्टर में 12 सर्विलांस टीमें तैनात की गई हैं, जो मेले में आने वाले श्रद्धालुओं कल्पवासियों की आरटीपीसीआर जांच करेंगी।   इसके अलावा कोविड-19 के टीकाकरण और सैंपलिंग के लिए भी छह-छह केंद्र बनाए गए हैं।

घाट बने, चेंजिंग रूम भी तैयार
प्रयागराज। माघ मेले में संतों-भक्तों की सुगम डुबकी के लिए स्नान घाटों को अंतिम रूप दे दिया गया है। इन घाटों पर संत, भक्त और कल्पवासी पुण्य की डुबकी लगाएंगे। इसके अलावा महिला श्रद्धालुओं के कपड़े बदलने के लिए चेंजिंग रूम भी बनाए गए हैं। भक्तों की मदद के लिए भी घाटों पर टीमें तैनात रहेंगी।

माघ मेले की व्यवस्था एक नजर में

  • 12 स्नान घाटों पर मकर संक्रांति पर लगेगी पुण्य की डुबकी
  • 1390 सामुदायिक शौचालय माघ मेले में स्वच्छता और सफाई के लिए लगाए गए
  • 12 स्वास्थ्य शिविर और 10 प्राथमिक उपचार केंद्र स्थापित किए गए
  • 05 सेक्टरों में बसाया गया संगम की रेती पर आस्था का माघ मेला
  • 08 पार्किंग स्थल वाहनों के लिए बनाए गए
  • 11,500 स्टैंड पोस्ट पेयजल के लिए मेला क्षेत्र में स्थापित

विस्तार

भगवान भास्कर के उत्तरायण होने के बाद लाखों श्रद्धालुओं ने मकर संक्रांति के पुण्यकाल में गंगा-यमुना और सरस्वती के पवित्र संगम में डुबकी लगाई और विधि विधान से मां गंगा का पूजन अर्चन किया। कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच शनिवार को पुण्यकाल में लाखों श्रद्धालुओं ने गंगा स्नान किया। संगम में डुबकी लगाने का सिलसिला रात भोर में चार बजे के बाद ही शुरू हो गया था।

सूर्योदय के साथ ही संगम के किनारे बनाए गए सभी दर्जन भर घाट श्रद्धालुओं से पट गए। इस बार मकर संक्रांति की मान्यता दो दिन होने के कारण शुक्रवार को भी बड़ी संख्या में श्रद्धालुओं ने संगम में डुबकी लगाई थी। शनिवार को भी श्रद्धालुओं का रेला उमड़ा। संगम स्नान के बाद श्रद्धालुओं ने लेटे हनुमानजी का दर्शन पूजन किया। जय श्री राम और जय बजरंग बली के जयकारे से पूरा मेला क्षेत्र गुंजायमान रहा। सुरक्षा व्यवस्था के व्यापक बंदोबस्त किए गए हैं।

Related posts:

Silver Crown, Donation Box Stolen From Temple In Jharkhand - पलामू: बदमाशों ने मंदिर से चांदी का मुक...
Son kills mother grandfather and brother for ancestral land in jhajjar hrrm
Hoshangabad: Tiger Pounces On Hunting In Front Of Tourists, Actor Randeep Hooda Posted Video On Soci...
Weather Update cold wave conditions over northwest India and Madhya Pradesh
India tour of south africa bcci treasurer arun dhumal says on time but only to corona new variant om...
Goat cremated with hindu customs for funeral procession in Kaushambi upns - बकरे का हिंदू रीति-रिवाज...
... Whose Boat Sank On The Shore, Know The Condition Of The Seats That Were Defeated And Won By A Ma...
Home Minister Amit Shah expressed grief, said General Rawat served the country with full devotion | ...
Stse Answer Key 2021 Rajasthan Board Of Secondary Education Will Soon Release The Answer Key Of Stat...
70 year old man stared at the sun for an hour in mathura made a national record nodaa
Weather report severe cold waves hit rajasthan temperature drops in jaipur udaipur alwar churu imd i...
Amitabh bachchan shares throwback picture on birth anniversary of harivansh rai bachchan pr - अमिताभ...
Ground Report Of Ayodhya Mandal By Akhilesh Vajpayee. - अयोध्या मंडल की रिपोर्ट: पौने पांच साल में ब...
Covid 19 Compensation: Supreme Court Reprimands States For Not Giving Wide Publicity To The Portal -...
Demonstration Against The Action Of Vacating Government Land, Warning Of A Sit-in Outside The Sdm Of...
Tianjin city testing after 2 local Omicron cases detected before winter Olympics china government - ...

Leave a Comment