Troubled By The Silence Of Muslims, Political Parties Restless On Polarization – Up Election 2022: मुसलमानों की खामोशी से सपा-कांग्रेस के नेताओं में ज्यादा बेचैनी, नहीं हो रहा ध्रुवीकरण

सुहेल खान, अमर उजाला, कानपुर
Published by: प्रभापुंज मिश्रा
Updated Sat, 15 Jan 2022 04:55 PM IST

सार

उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव की घोषणा के बाद राजनीतिक गलियारों में हलचल मची है। चुनाव में मुस्लिम मतदाता अपने पत्ते नहीं खोल रहे हैं। मतदान किधर करेंगे, यह नहीं बता रहे। पक्ष-विपक्ष दोनों आकलन नहीं कर पा रहे। जिससे सपा-कांग्रेस के नेताओं में ज्यादा बेचैनी है।

मुस्लिम महिला मतदाता

मुस्लिम महिला मतदाता
– फोटो : अमर उजाला

ख़बर सुनें

विस्तार

विधानसभा चुनाव में मुस्लिम मतदाता अपने पत्ते नहीं खोल रहे हैं। मुस्लिम समाज के लोग सभी की प्रशंसा कर रहे हैं, लेकिन मतदान किधर करेंगे, यह नहीं बता रहे। उनका रुख स्पष्ट न होने से पक्ष-विपक्ष दोनों आकलन नहीं कर पा रहे हैं। यही कारण है कि ध्रुवीकरण की कोशिश सफल नहीं हो पा रही है।

अब तो मुस्लिम समाज यह भी कहने लगा है कि सरकार किसी की बने, उनके हालात नहीं बदलने वाले। भाजपा की पांच साल की सरकार देख ली और इसके पहले तमाम कथित सेक्युलर दलों का भी शासन देखा है। उनकी जीवनशैली पर ज्यादा फर्क नहीं पड़ा है। वे एआईएमआईएम प्रमुख असदउद्दीन ओवैसी की बुराई भी नहीं सुनते हैं।

ओवैसी को भाजपा की बी टीम बताने वाले मुस्लिम भी वे लोग हैं, जो किसी न किसी सियासी दल से जुड़े हैं। आम मुसलमान ओवैसी का विरोध नहीं कर रहा है।

सपा-कांग्रेस के नेताओं में ज्यादा बेचैनी

शहरी क्षेत्र की कैंट, आर्यनगर और सीसामऊ सीटों में सपा व कांग्रेस की बेचैनी ज्यादा दिख रही है। वजह यह है कि दोनों ही पार्टियों को उम्मीद है कि मुस्लिम वोट उन्हें मिलेगा, लेकिन खुले मंच से मुस्लिमों का हितैषी होने का दम भी नहीं भर पा रहे। हालांकि, जानकारों का मानना है कि यहां पार्टी को मजबूत देखकर नहीं, बल्कि उम्मीदवार का आकलन कर मुस्लिम वोटर मतदान करेंगे।

वह जहां भी वोट करेगा, आखिरी समय तक आकलन करने के बाद एकतरफा वोटिंग करेगा। इसके लिए मुस्लिम वोटर जाना भी जाता है। यही कारण है कि एआईएमआईएम और उसके नेता की कही हर बात का समर्थन करता है, लेकिन उसको वोट देने के लिए भी अभी हामी नहीं भर रहा है। इसी चुप्पी की वजह से सियासी दलों में बेचैनी है।

नूर एजुकेशनल फाउंडेशन के सचिव और शिक्षाविद शाहिद कामरान खान कहते हैं कि मुस्लिम समाज के लोग आमतौर पर एकतरफा वोटिंग करने में ही माहिर हैं। इस बार शहर का मुसलमान पार्टी नहीं, बल्कि मजबूत उम्मीदवार को देखकर मतदान करेगा।

चौराहे पर खड़ा मुसलमान, वोट देने को बेकरार

फैज-ए-आम इंटर कॉलेज के प्रधानाचार्य और चिंतक मास्टर मोईनुल इस्लाम कहते हैं कि सियासी माहौल में मुस्लिम चौराहे पर खड़ा है। खामोश तो है, लेकिन वोट देने के लिए आतुर भी है। जिस चौराहे पर मुस्लिम खड़े हैं, वहां से कई सियासी दलों के रास्ते जाते हैं। वह मुस्लिम किसी एक दल को भरपूर वोट देता है।

उसकी कोई शर्त नहीं होती, बस एक सियासी दल को हराने के लिए कथित सेक्युलर दलों के हाथों इस्तेमाल होता है। मुस्लिम हमेशा खामोश वोटर कहलाएगा, जब तक उसकी कोई अपनी सियासी जमात नहीं होगी। पहले अपनी सियासी हैसियत बनाएं, फिर सत्ता में आने वाले दलों से हिस्सेदारी करें।

यही वजह है कि एक से पांच और आठ प्रतिशत समाज वाले लोग खुलकर अपनी रणनीति बना लेते हैं और हिस्सा मांगते हैं। 20 प्रतिशत वाला मुस्लिम वोटर, जिसका पार्टियां नाम भी नहीं ले रही हैं, वह सिर्फ खामोशी से वोट देने के लिए बेकरार है।

Related posts:

Malaika arora out for dog walks pics viral on internet pr
Vijay deverakonda starrer liger first glimpse released see poster ananya pandey
All India Muslim Personal Law Board says Muslim students must not participate in Surya Namaskar on U...
Harshal Patel Opens up Why RCB Did not Retain Him Before IPL 2022 Mega Auction
Groom hires helicopter for his baraat in bhojpur village bridegroom arrived unique style high profil...
किस तारीख को होगी कौन सी भर्ती परीक्षा, इलाहाबाद हाईकोर्ट ने जारी किया पूरा शेड्यूल – News18 हिंदी
Why mamata banerjee slam mahua Mahua Moitra in viral video
Rohit Sharma Is In Recovery Mode, Getting Match-ready, Likely To Be Available Against West Indies - ...
Tigress sultana killed dog within 5 seconds near safari vehicles tourists shocked rare incidents in ...
Madras High Court Approved The Death Sentence For Rape And Murder Of The Girl Saying - This Is The R...
Covid19 | Delhi Reports 56 New Covid19 Cases - दिल्ली में कोरोना : राजधानी में मिले संक्रमण के 56 नए...
Jharkhadn village story no road and electricity in borio assembly s devdad village godda boarijor bl...
Wedding jewellery shopping tips keep in mind before selecting it pra
Kundali bhagya 3rd jan update sherlyn doubts preeta instention
Economic offence unit conducted raid on residences of two officers in sand mining case bramk
Skin care tips how to get rid of neck darkness with tomato mt

Leave a Comment