Uttarakhand elections update why suspense over harak singh rawat trivendra singh rawat contest amid ticket speculations in bjp

देहरादून. उत्तराखंड की सभी 70 विधानसभा सीटों पर किसे टिकट दिया जाए? इसके लिए बीजेपी के कोर ग्रुप की मीटिंग शनिवार 11 बजे से और चुनाव समिति की बैठक दोपहर 1 बजे से होने जा रही है. हर सीट से 3 दावेदारों का पैनल बनाकर रिपोर्ट केंद्रीय चुनाव समिति को भेजी जाएगी, जहां से प्रत्याशी के नाम पर फाइनल मुहर लगेगी. माना जा रहा है कि बीजेपी अपने प्रत्याशियों की पहली लिस्ट 16 से 18 जनवरी के बीच जारी कर सकती है. इस बीच पूर्व मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत और मौजूदा उत्तराखंड सरकार में कैबिनेट मंत्री हरक सिंह रावत के चुनाव व विधानसभा सीट को लेकर सस्पेंस बढ़ गया है.

पुष्कर सिंह धामी का खटीमा विधानसभा सीट से इस बार भी चुनाव लड़ना जहां तय माना जा रहा है, वहीं भाजपा सरकार के इस कार्यकाल में सबसे ज़्यादा करीब चार साल तक मुख्यमंत्री रहने वाले त्रिवेंद्र सिंह रावत के चुनाव पर सस्पेंस बन गया है. रावत डोईवाला सीट का प्रतिनिधित्व करते हैं, जहां से वह तीन बार 2002, 2007 और 2017 का चुनाव जीते लेकिन केंद्रीय नेतृत्व के सामने रावत को इस बार टिकट दिए जाने को लेकर असमंजस है क्योंकि उन्हें बीच कार्यकाल में ही सीएम पद से हटाया गया था. यही नहीं, रावत के कई फैसले धामी और तीरथ सिंह सरकार में बदले भी गए थे.

हरक सिंह रावत चुनाव लड़ेंगे या नहीं?
इस सवाल के जवाब में भी अभी अटकलबाज़ी ही हो रही है, लेकिन माना जा रहा है कि हरक सिंह की असंतुष्टि मोल लेने का जोखिम भाजपा नहीं उठाएगी. वास्तव में, हरक अपनी बहू अनुकृति के लिए टिकट की मांग कर रहे हैं और पहले एक बयान दे चुके हैं कि वह खुद चुनाव लड़ने में दिलचस्पी नहीं रखते. दूसरी खबर यह भी रही कि वह अपनी कोटद्वार सीट छोड़कर किसी और सीट से चुनाव लड़ने के बारे में रणनीति बना रहे हैं. कुल मिलाकर भाजपा के सामने ‘एक परिवार एक टिकट’ जैसी नीति तय करने की बड़ी चुनौती है.

‘मेरी एक ही पत्नी है और एक ही पार्टी’
इधर, लैंसडाउन से बीजेपी विधायक दिलीप सिंह रावत ने यह कहकर सबको चौंका दिया कि भाजपा ही उनकी पार्टी है और उनके पास जैसे एक पत्नी का दूसरा विकल्प नहीं है, वैसे ही अपनी पार्टी और सीट का भी कोई विकल्प नहीं है. वास्तव में, इस सीट पर भी हरक सिंह और उनके परिवार को लेकर चर्चाएं चल रही हैं. इसके साथ ही, अन्य दावेदार भी यहां से टिकट के लिए जुगत भिड़ा रहे हैं.

क्यों कटने वाले हैं दर्जन से ज़्यादा विधायकों के टिकट?
इस पूरे घटनाक्रम के बीच एक चर्चा यह भी है कि इस बार सरकार विरोधी लहर को काबू में करने के लिए भाजपा अपने 57 विधायकों में से एक दर्जन से ज़्यादा के टिकट छीनने वाली है. एक खबर में एक भाजपा नेता के हवाले से कहा गया कि जिस तरह मुख्यमंत्री बदलकर पार्टी ने छवि बदली, उसी तरह इस फैसले से भी वोटरों के ​बीच पार्टी का एक अलग संदेश जाएगा.

आपके शहर से (देहरादून)

उत्तराखंड

उत्तराखंड

Tags: Assembly elections, Harak singh rawat, Trivendra Singh Rawat, Uttarakhand Assembly Election

Related posts:

First Wave Of Corona In Delhi Was Tsunami  - दिल्ली का हाल : सुनामी थी कोरोना की पहली लहर, संक्रमण क...
Top 10 sports news indian hockey team beat pakistan andy flower named lucknow ipl franchise head coa...
Madhya Pradesh Rajgarh News: Mass Feast On The Monkey Death, Funeral Performed According To Hindu Ri...
Up Assembly Election 2022 Chitrakoot Belief Of Hanuman Dhara Temple News Updates In Hindi - चित्रकूट...
Terra token has surged 15000 percent in one year in Cryptocurrency market
Ashes 2021 100 Fans Ejected From Melbourne Cricket Ground because of their Unruly behavior
IND vs NZ Ajaz Patel records best figures in test against India also at Mumbai Wankhede stadium by n...
Le lo pudina pawan singh superhit bhojpuri song sung by a little girl watch viral video raya
Jac Delhi Today Is The Last Day Of Registration More Opportunities For Admission In Computer Enginee...
Junior Doctors Boycott Opd Work At Sn Medical College In Agra - आगरा: एसएन मेडिकल कॉलेज में जूनियर ड...
Meerut Sexual Assault With Bjp Woman Leader Communal Tension Erupts In - मेरठ: भाजपा महिला मोर्चा ने...
Greater noida stabbed dog as it picking meat from his shop in murga mandi greater noida nodnc
Sehore: Collector's Strong Stand On Illegal Sand Mining, Demolished Temporary Bridge For Sand Transp...
Names of 4 lakh people will be deducted from ration card in Jharkhand jhnj
Neil bhatt and aishwarya sharma romantic dance on rhtdm song a day before marriage
नारायणपुर : छत्तीसगढ़ में मुठभेड़ में मारा गया नक्सली कमांडर | भारत समाचार

Leave a Comment