Villagers Depends On Chambar River Water After 70 Year Of Development Bah Agra News – यूपी: सरकारें बदलीं-तस्वीर, 70 साल बाद भी बीहड़ के गांवों में सड़क और पानी ही चुनावी मुद्दा, देखें तस्वीरें

पानी के लिए मेहनत करतीं महिलाएं
– फोटो : अमर उजाला

यमुना और चंबल के बीहड़ में बसे गांवों में 70 साल से सड़क और पानी चुनावी मुद्दा रहा है। तस्वीर नहीं बदली है। इस बार भी बीहड़ के इन 60 गांवों में सड़क और पीने का पानी सबसे बड़ा मुद्दा है। गांव झरनापुरा, मऊ की मडै़या, भटपुरा, गुढ़ा आदि और यमुना के बीहड़ के गांव गगनकी, बुढै़रा, बड़ापुरा, कछियारा, सुंसार, बाग गुढ़ियाना, पुराडाल आदि गांवों में रास्ते के नाम पर सिर्फ पगडंडियां हैं। बारिश के बाद यहां कीचड़ भर जाती है। कई घंटे तक वाहन फंसे रहते हैं। नौ जनवरी को सुंसार गांव की पगडंडी पर ट्रैक्टर ट्रॉली फंस गई थी। परिजन बीमार गुड्डी देवी को अस्पताल ले जा रहे थे। इलाज मिलने में देरी से महिला की मौत हो गई। कछार के गांवों में प्यास बुझाने के लिए नदी तक दौड़ लगाना मजबूरी है। पिछले विधानसभा चुनाव में सुंसार और गुढ़ा गांव के लोगों ने चुनाव के दौरान मतदान का बहिष्कार कर समस्याओं से निजात की गुहार लगाई थी लेकिन समस्या आज भी जस की तस है।

पगडंडी
– फोटो : अमर उजाला

सड़क-पानी देने वाले को वोट

गांव में हैंडपंप से खारा पानी आता है। पानी के लिए यमुना तक जाना पड़ता है। सड़क तक पहुंचने के लिए बीहड़ में सात किमी की पगडंडी है। वाहन और इलाज के अभाव पांच साल में 12 लोगों की जान जा चुकी हैं। वोट उसी को देंगे, जो सड़क और पानी की व्यवस्था कराए। -पुत्तूलाल, गांव सुंसार                                                

कच्ची सड़क
– फोटो : अमर उजाला

वन्य जीवों का रहता है डर

सिमराई से गुढ़ा गांव तक चार किमी चंबल के बीहड़ में वन्यजीवों के हमले के डर के बीच चलना पड़ता है। गांव की सड़क की मांग को लेकर चुनाव बहिष्कार किया। कई बार प्रार्थनापत्र दिए। सुनवाई नहीं हो रही। इस बार गांव के लोग उसी को वोट देंगे जो सड़क बनवाएगा। -जयवीर सिंह ,प्रधान गुढ़ा सिमराई                                          

नदी का पानी ले जातीं महिलाएं
– फोटो : अमर उजाला

छान कर पीते हैं हम पानी

टीले पर झोपड़ी में जिंदगी बिता रहे गांव के लोग यमुना नदी से पानी लाते हैं। इसे छान कर पीते हैं। सड़क तक पहुंचने के लिए साढे़ तीन किमी बीहड़ के कच्चे रास्ते पर चलना पड़ता है। गांव में पानी की टंकी लग सकी है और न बीहड़ में रास्ता बना। वन्यजीव के हमले का डर रहता है। – जय नारायन, बाग गुड़ियाना

बीहड़ में हैं ऐसी पगडंडियां
– फोटो : अमर उजाला

टूटी सड़क दोबारा नहीं बनी

गांव के लिए करीब 5 किमी की सड़क बनी थी। अब यह सड़क टूट गई है। उसका नामोनिशान तक नहीं बचा है। बाढ़ में पुलिया भी टूट गई थी। जिसे लोगों ने श्रमदान कर बनवाया। अब सभी ने तय किया है कि सड़क बनवाने वाले को ही गांव के लोग वोट देंगे। – नेत्रपाल वर्मा, झरनापुरा  

Related posts:

Parliamentary panel on home affairs raises concerns over cryptocurrency use in drug trafficking
Cinnamon Will Be Produced In Himachal, Pilot Project Will Start From Una - हिमाचल में होगा दालचीनी क...
20 thousand villagers of 3 panchayats of ramgarh facing problem as their police district is hazariba...
Health news what is sleep disorder and sleeping problems solutions pra
Navya Naveli Nanda wants nana Amitabh Bachchan new hoodie fans says jaa kr maang lo ps - नव्या नवेली...
Bjp Candidates Won Nine Times From Agra Assembly Seats - चुनावी इतिहास: 37 वर्षों से आगरा उत्तर विधा...
Khesari lal yadav Shilpi Raj Do Ghoont Song Crossed 1 million views in A Day Watch here Raya
Grandmother Lover Had Killed The Innocent In Noida Gangster Is Accused - पर्दाफाश: दादी का आशिक गैंग...
Unnao bjp mp sakshi maharaj welcome deputy cm keshav prasad maurya statement over mathura upns
Press Conference Of Dgp Siddhartha Chattopadhyay In Lieu Of Ludhiana Court Bomb Blast - चंडीगढ़: लुध...
Corona patients rapidly admitted in Mumbai Hospital 15 percent ICU bed have occupied lak
Bodies Of The Two Indians Who Lost Their Lives In Abu Dhabi Fire Incident Reach Amritsar - पंजाब: ड्...
Subhash Chandra Bose Jayanti: Most People Consider Sardanand Brahmachari To Be Netaji Intelligence O...
Amid omicron fear indias covid 19 cases slump to record low
Bulli Bai App Creator Neeraj Bishnoi's Laptop Sezied By School Many Times, Father Says- He Has Few F...
कश्मीर मुठभेड़ में मारे गए 2 नागरिकों के परिजन के रूप में विवाद शुरू, मृतक ओजीडब्ल्यू थे इनकार | भा...

Leave a Comment