World pulses day 2022 know history theme and significance in hindi mt

World Pulses Day 2022: हर वर्ष विश्व में 10 फरवरी को ‘अंतर्राष्ट्रीय दलहन दिवस’ (World Pulses Day) मनाया जाता है. इस दिन को यानी ‘वर्ल्ड पल्स डे’ को मनाने का उद्देश्य लोगों को दालों के महत्व को समझाना और ये बताना है कि दालें पोषण और  खाद्य सुरक्षा के लिए कितनी महत्वपूर्ण (Important) हैं.

आइये जानते हैं कि ‘अंतर्राष्ट्रीय दलहन दिवस’ का इतिहास और महत्व (Significance) क्या है. साथ ही ये भी जानते हैं कि आखिर दलहन होता क्या है.

अंतर्राष्ट्रीय दलहन दिवस का इतिहास (World Pulses Day History)

 ‘अंतर्राष्ट्रीय दलहन दिवस’ पहली बार वर्ष 2016 में मनाया गया था, बाद में संयुक्त राष्ट्र महासभा ने 10 फरवरी को विश्व दाल दिवस के रूप में मनाने के लिए प्रस्ताव पारित किया था. तब से इस दिन को ‘अंतर्राष्ट्रीय दलहन दिवस’ (World Pulses Day) के रूप में मनाया जा रहा है.

ये भी पढ़ें: Diet For Vegetarians: शाकाहारी लोगों को नहीं होगी पोषक तत्वों की कमी, डाइट में शामिल करें ये चीजें

इस वर्ष के लिए थीम

साल 2022 के लिए ‘अंतर्राष्ट्रीय दलहन दिवस’ की थीम निर्धारित की गयी है- ‘युवाओं को टिकाऊ कृषि खाद्य प्रणाली प्राप्त करने में सशक्त बनाने के लिए दालें’ (Pulses to empower youth in achieving sustainable agrifood systems). इस दिन आयोजित होने वाले कार्यक्रम व सेमिनार इसी विषय पर केंद्रित रहेंगे.

वर्ल्ड पल्स डे का महत्व (World Pulse Day Significance)

आज के दौर के लाइफस्टाइल में लोग फास्ट फूड और फ्रोजन फ़ूड को ज्यादा महत्व देने लगे हैं. जिसके चलते हमारी डाइट में दालों का इस्तेमाल कम होता जा रहा है. इससे पूरा पोषण शरीर को नहीं मिल पा रहा है और इसका दुष्प्रभाव लोगों, विशेषकर बच्चों एवं युवा वर्ग की हेल्थ पर पड़ रहा है. लोगों के स्वास्थ और खाद्य सुरक्षा के लिए दालें कितनी आवश्यक हैं. इस बात को लोगों तक पहुंचाने और दालों को खाने में शामिल करने के लिए जागरूकता फैलाने के उद्देश्य से ही अंतर्राष्ट्रीय दलहन दिवस को मनाया जाता है.

ये भी पढ़ें: Kulthi Dal Benefits: ज्यादा फेमस नहीं है कुल्थी दाल लेकिन सेहत को देती है गजब के फायदे

जानें दलहन होता क्या है

सीधी और सरल भाषा में अगर कहा जाये, तो दाल पैदा करने वाली फसल को दलहन कहा जाता है. यानी दलहन उस अनाज को कहते हैं जिससे दाल तैयार होती है. भारत में चना, मसूर, राजमा, मटर, कुल्थी, मूंग और  उड़द जैसी कई तरह की दालों की पैदावार होती है, जो कि प्रोटीन का मुख्य स्रोत हैं. दालें हमारी डाइट का सबसे खास हिस्सा हैं और इनकी खासियत ये होती है कि आंच पर पकने के बाद भी दालों के पौष्टिक तत्व सुरक्षित रहते हैं.

Tags: Food, Lifestyle

Related posts:

New Zealand vs Bangladesh 1st Test Day 3 at Bay Oval Mount Maunganui Live Cricket Score
Bseb exam 2022 bihar board exam 2022 guidelines for students
Ind vs sa rishi dhawan could not make in to odi team after performing well venkatesh iyer
Politics On Sick Chief Ministers Naveen Patnaik J Jayalalithaa Kailash Chandra Joshi Ram Prasad Gupt...
India vs new zealand: 1st test at kanpur day 1 latest updates | भारत ने 4 विकेट के नुकसान पर 258 रन ...
Indian mujahideen active sleeper cells of forty persons in bihar intelligence bureau reported alert ...
Mohammad Faiz declared winner of Superstar Singer 2
Defense Minister Rajnath Singh Said: Neither Bua Nor Babua In Up, Baba Is Needed In 2022  - रक्षा मं...
Wedding Bells: कटरीना से अगले हफ्ते कोर्ट मैरिज करने जा रहे विक्की कौशल, बाद में होगी रॉयल वेडिंग
Bank strike unions call for 2 day nationwide bank strike bank will be closed on 16 17 December 2021 ...
Budget 2022 plan 20 cities of bihar will become modern appearance will change see list nodvm
Ajab Gajab news omg news liquor found from headlight of ambassador car everyone was surprised bruk
Uttarakhand News: Mri Machine Reached Doon Hospital, It Will Take About 10 Days To Install - उत्तराख...
Parliamentary Affairs Minister Prahlad Joshi said on the suspension of 12 MPs they should get such p...
Uttarakhand Elections: Congress Leader Harish Rawat Said - Will Release The First List Of Candidates...
Himachal News: Rampur Bjp Leaders Workers Resign Over Himcofed Chairman Appointment - भाजपा में बगाव...

Leave a Comment